• Home
  • National News
  • मंत्री अब खुद भरेंगे अपना इनकम टैक्स, 35 साल से भर रही थी सरकार
मंत्री अब खुद भरेंगे अपना इनकम टैक्स, 35 साल से भर रही थी सरकार
National  
navbharattimes.indiatimes

दोनों सदनों ने यूपी शिक्षा सेवा चयन आयोग विधयेक पर भी मुहर लगा दी। इसके तहत शिक्षा सेवा चयन आयोग का गठन होगा, जो बेसिक, माध्यमिक और उच्च शिक्षा संस्थानों में शिक्षकों और शिक्षणेतर कर्मचारियों की भर्ती प्रक्रिया आयोजित करेगा।

 

यूपी में अब सीएम सहित सभी मंत्री अपने वेतन पर लगने वाला आयकर अब खुद भरेंगे। गुरुवार को विधानसभा और विधान परिषद ने यूपी मंत्री (वेतन, भत्ता और प्रकीर्ण उपबंध) विधेयक को मंजूरी दे दी। इसमें वह प्रावधान हटा दिया गया, जिसके तहत मंत्रियों के वेतन पर आयकर सरकार भरती थी। करीब 35 साल से राज्य सरकार आयकर भर रही थी। इसी सत्र में मंत्रियों का 86 लाख रुपये का कर चुकाया गया था। सरकार नवंबर में ही यह व्यवस्था खत्म करने के लिए अध्यादेश ला चुकी थी, अब सदन से भी इस पर मुहर लग गई है।
 
दोनों सदनों ने यूपी दंड विधि (अपराधों का शमन और विचारणों का उपशमन) विधेयक को भी हरी झंडी दे दी। इसके तहत मैजिस्ट्रेस्ट के सामने सीआरपीसी की धारा 107 और 109 के तहत लंबित मुकदमों को खत्म किया जा सकेगा। इसके लिए कटऑफ अवधि एक साल बढ़ाकर 31 दिसंबर, 2016 कर दी गई है। दोनों सदन में अनुपूरक बजट सहित 6 विधेयकों को हरी झंडी दी।
 
राजकीय व अल्पसंख्यक शिक्षण संस्थान आयोग के दायरे से बाहर
 
दोनों सदनों ने यूपी शिक्षा सेवा चयन आयोग विधयेक पर भी मुहर लगा दी। इसके तहत शिक्षा सेवा चयन आयोग का गठन होगा, जो बेसिक, माध्यमिक और उच्च शिक्षा संस्थानों में शिक्षकों और शिक्षणेतर कर्मचारियों की भर्ती प्रक्रिया आयोजित करेगा। हालांकि, आयोग की परिधि से राजकीय इंटर कॉलेजों, डिग्री कॉलेजों और अल्पसंख्यक शिक्षण संस्थानों को बाहर रखा गया है। पूर्व कुलपति, विश्वविद्यालय में तीन साल के प्रशासनिक अनुभव के साथ कम से कम 10 साल प्रफेसर रहे व्यक्ति या प्रमुख सचिव के स्तर तक के आईएएस आयोग के अध्यक्ष बन सकेंगे। 65 वर्ष की आयु या पांच साल तक अधिकतम अध्यक्ष का कार्यकाल होगा। लगातार दो बार से अधिक किसी को अध्यक्ष का कार्यकाल नहीं दिया जा सकेगा।
 
दुकानों का नहीं करवाना होगा बार-बार रजिस्ट्रेशन
 
सरकार ने व्यापारियों को राहत देते हुए दुकानों के बार-बार रजिस्ट्रेशन की व्यवस्था खत्म कर दी है। इसके लिए यूपी दुकान और वाणिज्य अधिष्ठान संशोधन विधेयक को सहमति दे दी। मौजूदा व्यवस्था के तहत दुकान का रजिस्ट्रेशन एक तय अवधि के लिए होता है और इसके बाद नवीनीकरण करवाना पड़ता है। अब दुकान का पंजीकरण तब तक मान्य होगा, जब तक वह बंद नहीं हो जाती। इसके अलावा दोनों सदनों से यूपी राज्य विवि तृतीय संशोधन विधेयक भी पास किया गया। इसके तहत अलीगढ़ में राजा महेंद्र प्रताप सिंह राज्य विवि की स्थापना का रास्ता साफ हो गया है।

 
 


 
 


 
More in National
One of Our Best Biochemists With 16 JACS Papers, She Was Never Awarded...

Such was Darshan Ranganathan’s dedication that she got her mother to send jackfruit from India all the way to London, just for her research! #WomenInScience

Recently posted . 7 views

Coronavirus lockdown: Collection of toll suspended at all toll plazas ...

In series of tweets minister said that "In view of Covid-19, it has been ordered to temporarily suspend the collection of toll at all toll plaza across India...

Recently posted . 16 views

Indian Railways 1st IRCTC pod hotel coming up at Mumbai Central statio...

The pod hotel has been targeted to start services by the month of December 2020, according to IRCTC. The pods will be constructed within the first six months after ...

Recently posted . 21 views

Shaheen Bagh Anti-CAA Protesters Removed Amid Delhi Lockdown

Shaheen Bagh: Last week, Delhi Police had urged the anti-CAA protesters at Shaheen Bagh - mostly women - to call off their agitation.

Recently posted . 115 views

Parliament passes amendments to IBC

The bill seeks to remove bottlenecks and streamline the corporate insolvency resolution process. It aims to provide protection to new owners of a loan defaulter com...

Recently posted . 23 views

 
 
 

Prashnavali

Thought of the day

A loving heart is the truest wisdom.
Charles Dickens