• Home
  • Spiritual News
  • नागचंद्रेश्वर मंदिर – साल में मात्र एक दिन खुलता है मंदिर
नागचंद्रेश्वर मंदिर – साल में मात्र एक दिन खुलता है मंदिर
Spiritual  
ajabgjab

Nagchandreshwar Temple, Ujjain – हिंदू धर्म में सदियों से नागों की पूजा करने की परंपरा रही है। हिंदू परंपरा में नागों को भगवान का आभूषण भी माना गया है। भारत में नागों के अनेक मंदिर हैं, इन्हीं में से एक मंदिर है उज्जैन स्थित नागचंद्रेश्वर का,जो की उज्जैन के प्रसिद्ध महाकाल मंदिर की तीसरी मंजिल पर स्तिथ है। इसकी खास बात यह है कि यह मंदिर साल में सिर्फ एक दिन नागपंचमी (श्रावण शुक्ल पंचमी) पर ही दर्शनों के लिए खोला जाता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन नागराज तक्षक स्वयं मंदिर में मौजूद रहते हैं।

 

नागचंद्रेश्वर मंदिर में  11वीं शताब्दी की एक अद्भुत प्रतिमा है , इसमें फन फैलाए नाग के आसन पर शिव-पार्वती बैठे हैं। कहते हैं यह प्रतिमा नेपाल से यहां लाई गई थी। उज्जैन के अलावा दुनिया में कहीं भी ऐसी प्रतिमा नहीं है। माना जाता है कि पूरी दुनिया में यह एकमात्र ऐसा मंदिर है, जिसमें विष्णु भगवान की जगह भगवान भोलेनाथ सर्प शय्या पर विराजमान हैं। मंदिर में स्थापित प्राचीन मूर्ति में शिवजी, गणेशजी और माँ पार्वती के साथ दशमुखी सर्प शय्या पर विराजित हैं। शिवशंभु के गले और भुजाओं में भुजंग लिपटे हुए हैं।
 
 
पौराणिक मान्यता – 
सर्पराज तक्षक ने शिवशंकर को मनाने के लिए घोर तपस्या की थी। तपस्या से भोलेनाथ प्रसन्न हुए और उन्होंने सर्पों के राजा तक्षक नाग को अमरत्व का वरदान दिया। मान्यता है कि उसके बाद से तक्षक राजा ने प्रभु के सा‍‍‍न्निध्य में ही वास करना शुरू कर दिया ।
 
 
 
यह मंदिर काफी प्राचीन है। माना जाता है कि परमार राजा भोज ने 1050 ईस्वी के लगभग इस मंदिर का निर्माण करवाया था। इसके बाद सिं‍धिया घराने के महाराज राणोजी सिंधिया ने 1732 में महाकाल मंदिर का जीर्णोद्धार करवाया था। उस समय इस मंदिर का भी जीर्णोद्धार हुआ था। कहा जाता है इस मंदिर में दर्शन करने के बाद व्यक्ति किसी भी तरह के सर्पदोष से मुक्त हो जाता है, इसलिए नागपंचमी के दिन खुलने वाले इस मंदिर के बाहर भक्तों की लंबी कतार लगी रहती है। सभी की यही मनोकामना रहती है कि नागराज पर विराजे शिवशंभु की उन्हें एक झलक मिल जाए। लगभग दो लाख से ज्यादा भक्त एक ही दिन में नागदेव के दर्शन करते हैं।

 
 


 
 


 
More in Spiritual
Sai Baba’s Udi Is Extraordinary

Baba had a number of disciples following him. One day, one of his most favourite disciples, Tatya, had fallen sick. He had not come to the mosque for several days, ...

1 week ago . 14 views

The Sound "Om" Has a Shape, and It Looks a Lot Like Our Universe (VIDE...

What if you could see sound instead of just hearing it? It may sound like something your hippie friend might ask, but sound really does have physical shape, and w...

1 week ago . 21 views

Why Shravan Month Is Lord Shiva’s Favorite?

It is said that Shravan Month is Lord Shiva’s favorite month. Have you ever wondered why? Intellectuals say that worshiping him on his favorite occasion wil...

3 weeks ago . 62 views

Cause Behind Celebrating Maha Shivaratri

Mahashivaratri is not only a ritual but also a cosmic definition of the Hindu universe. It dispels ignorance, emanates the light of knowledge, makes one aware of ...

3 weeks ago . 28 views

Amazing reason – Why Hindu temples have bells!

We find all Hindu temples having metal bells at the entrance or inside the temple. We usually ring these bells before entering the temple and at the time...

3 weeks ago . 39 views

 
 
 

Prashnavali

Thought of the day

It's your life. Don't let anyone make you feel guilty for living it your way
Anonymous