• Home
  • Spiritual News
  • नागचंद्रेश्वर मंदिर – साल में मात्र एक दिन खुलता है मंदिर
नागचंद्रेश्वर मंदिर – साल में मात्र एक दिन खुलता है मंदिर
Spiritual  
ajabgjab

Nagchandreshwar Temple, Ujjain – हिंदू धर्म में सदियों से नागों की पूजा करने की परंपरा रही है। हिंदू परंपरा में नागों को भगवान का आभूषण भी माना गया है। भारत में नागों के अनेक मंदिर हैं, इन्हीं में से एक मंदिर है उज्जैन स्थित नागचंद्रेश्वर का,जो की उज्जैन के प्रसिद्ध महाकाल मंदिर की तीसरी मंजिल पर स्तिथ है। इसकी खास बात यह है कि यह मंदिर साल में सिर्फ एक दिन नागपंचमी (श्रावण शुक्ल पंचमी) पर ही दर्शनों के लिए खोला जाता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन नागराज तक्षक स्वयं मंदिर में मौजूद रहते हैं।

 

नागचंद्रेश्वर मंदिर में  11वीं शताब्दी की एक अद्भुत प्रतिमा है , इसमें फन फैलाए नाग के आसन पर शिव-पार्वती बैठे हैं। कहते हैं यह प्रतिमा नेपाल से यहां लाई गई थी। उज्जैन के अलावा दुनिया में कहीं भी ऐसी प्रतिमा नहीं है। माना जाता है कि पूरी दुनिया में यह एकमात्र ऐसा मंदिर है, जिसमें विष्णु भगवान की जगह भगवान भोलेनाथ सर्प शय्या पर विराजमान हैं। मंदिर में स्थापित प्राचीन मूर्ति में शिवजी, गणेशजी और माँ पार्वती के साथ दशमुखी सर्प शय्या पर विराजित हैं। शिवशंभु के गले और भुजाओं में भुजंग लिपटे हुए हैं।
 
 
पौराणिक मान्यता – 
सर्पराज तक्षक ने शिवशंकर को मनाने के लिए घोर तपस्या की थी। तपस्या से भोलेनाथ प्रसन्न हुए और उन्होंने सर्पों के राजा तक्षक नाग को अमरत्व का वरदान दिया। मान्यता है कि उसके बाद से तक्षक राजा ने प्रभु के सा‍‍‍न्निध्य में ही वास करना शुरू कर दिया ।
 
 
 
यह मंदिर काफी प्राचीन है। माना जाता है कि परमार राजा भोज ने 1050 ईस्वी के लगभग इस मंदिर का निर्माण करवाया था। इसके बाद सिं‍धिया घराने के महाराज राणोजी सिंधिया ने 1732 में महाकाल मंदिर का जीर्णोद्धार करवाया था। उस समय इस मंदिर का भी जीर्णोद्धार हुआ था। कहा जाता है इस मंदिर में दर्शन करने के बाद व्यक्ति किसी भी तरह के सर्पदोष से मुक्त हो जाता है, इसलिए नागपंचमी के दिन खुलने वाले इस मंदिर के बाहर भक्तों की लंबी कतार लगी रहती है। सभी की यही मनोकामना रहती है कि नागराज पर विराजे शिवशंभु की उन्हें एक झलक मिल जाए। लगभग दो लाख से ज्यादा भक्त एक ही दिन में नागदेव के दर्शन करते हैं।

 
 


 
 


 
More in Spiritual
How pre-Aryan symbol ‘Swastika’ is older than 11000 years?

Swastika is a sacred symbol in Hinduism, Buddhism & Jainism and a symbol of ancient religion which is in the form of equilateral cross having four legs bent a...

1 month ago . 55 views

10 Must Known Facts About Shravan Maas

Shravan Maas or Sawan month is considered very auspicious to the devotees of Lord Shiva. Almost everyone of them will be fasting either for the whole month or at ...

1 month ago . 93 views

The unfinished Jagannath idol at Puri

Among the most exalted of all Vishnu temples is the one at Puri, in Orissa, where the deity is called Jagannath – the Lord of the Universe. Jagannath is an in...

1 month ago . 110 views

11 Astonishing Facts About Jagannath Temple In Puri

It took three generations worth of time and effort to brick up the humongous walls of the famous Puri's Jagannath Temple located in Odisha. The temple is of u...

1 month ago . 93 views

Spiritual Healing - Testing the Healing Techniques - Do They Really Wo...

Through recent years that I have practiced and studied spiritual healing, I have experienced and seen many healings and wellness developments over how I feature t...

1 month ago . 104 views

BEYOND SUPERSTITION

Who is Jesus Christ? Is Jesus God? Has Jesus Christ ever claimed to be God? See the evidence from the life of Jesus Christ that why believing in Jesus Christ is not...

1 month ago . 69 views

 
 
 

Prashnavali

Thought of the day

Sometimes we need someone to simply be there.
Anonymous