• Home
  • Spiritual News
  • एक बुजुर्ग औरत मर गई, यमराज लेने आये।
एक बुजुर्ग औरत मर गई, यमराज लेने आये।
Spiritual  
TodayIndya

औरत ने यमराज से पूछा, आप मुझे स्वर्ग ले जायेगें या नरक।
 
यमराज बोले दोनों में से कहीं नहीं।
 
तुमनें इस जन्म में बहुत ही अच्छे कर्म किये हैं, इसलिये मैं तुम्हें सिधे प्रभु के धाम ले जा रहा हूं।
 
बुजुर्ग औरत खुश हो गई, बोली धन्यवाद, पर मेरी आपसे एक विनती है।
 
मैनें यहां धरती पर सबसे बहुत स्वर्ग - नरक के बारे में सुना है मैं एक बार इन दोनों जगाहो को देखना चाहती हूं।
 
यमराज बोले तुम्हारे कर्म अच्छे हैं, इसलिये मैं तुम्हारी ये इच्छा पूरी करता हूं।

 

चलो हम स्वर्ग और नरक के रसते से होते हुए प्रभु के धाम चलेगें।
 
दोनों चल पडें, सबसे पहले नरक आया।
 
नरक में बुजुर्ग औरत ने जो़र जो़र से लोगो के रोने कि आवाज़ सुनी।
 
वहां नरक में सभी लोग दुबले पतले और बीमार दिखाई दे रहे थे।
 
औरत ने एक आदमी से पूछा यहां आप सब लोगों कि ऐसी हालत क्यों है।
 
आदमी बोला तो और कैसी हालत होगी, मरने के बाद जबसे यहां आये हैं, हमने एक दिन भी खाना नहीं खाया।
 
भूख से हमारी आतमायें तड़प रही हैं
 
बुजुर्ग औरत कि नज़र एक वीशाल पतिले पर पडी़, जो कि लोगों के कद से करीब 300 फूट ऊंचा होगा, उस पतिले के ऊपर एक वीशाल चम्मच लटका हुआ था।
 
उस पतिले में से बहुत ही शानदार खुशबु आ रही थी।
 
बुजुर्ग औरत ने उस आदमी से पूछा इस पतिले में कया है।
 
आदमी मायूस होकर बोला ये पतिला बहुत ही स्वादीशट खीर से हर समय भरा रहता है।
 
बुजुर्ग औरत ने हैरानी से पूछा, इसमें खीर है
 
तो आप लोग पेट भरके ये खीर खाते क्यों नहीं, भूख से क्यों तड़प रहें हैं।
 
आदमी रो रो कर बोलने लगा, कैसे खायें
 
ये पतिला 300 फीट ऊंचा है हममें से कोई भी उस पतिले तक नहीं पहुँच पाता।
 
बुजुर्ग औरत को उन पर तरस आ गया
सोचने लगी बेचारे, खीर का पतिला होते हुए भी भूख से बेहाल हैं।
 
शायद ईश्वर नें इन्हें ये ही दंड दिया होगा
 
यमराज बुजुर्ग औरत से बोले चलो हमें देर हो रही है।
 
दोनों चल पडे़, कुछ दूर चलने पर स्वरग आया।
 
वहां पर बुजुर्ग औरत को सबकी हंसने,खिलखिलाने कि आवाज़ सुनाई दी।
 
सब लोग बहुत खुश दिखाई दे रहे थे।
उनको खुश देखकर बुजुर्ग औरत भी बहुत खुश हो गई।
 
पर वहां स्वरग में भी बुजुर्ग औरत कि नज़र वैसे ही 300 फूट उचें पतिले पर पडी़ जैसा नरक में था, उसके ऊपर भी वैसा ही चम्मच लटका हुआ था।
 
बुजुर्ग औरत ने वहां लोगो से पूछा इस पतिले में कया है।
 
स्वर्ग के लोग बोले के इसमें बहुत टेस्टी खीर है।
 
बुजुर्ग औरत हैरान हो गई
 
उनसे बोली पर ये पतिला तो 300 फीट ऊंचा है
 
आप लोग तो इस तक पहुँच ही नहीं पाते होगें
 
उस हिसाब से तो आप लोगों को खाना मिलता ही नहीं होगा, आप लोग भूख से बेहाल होगें
 
पर मुझे तो आप सभी इतने खुश लग रहे हो, ऐसे कैसे
 
लोग बोले हम तो सभी लोग इस पतिले में से पेट भर के खीर खाते हैं
 
औरत बोली पर कैसे,पतिला तो बहुत ऊंचा है।
 
लोग बोले तो क्या हो गया पतिला ऊंचा है तो
 
यहां पर कितने सारे पेड़ हैं, ईश्वर ने ये पेड़ पौधे, नदी, झरने हम मनुष्यों के उपयोग के लिये तो बनाईं हैं
 
हमनें इन पेडो़ कि लकडी़ ली, उसको काटा, फिर लकड़ीयों के तुकडो़ को जोड़ के वीशाल सिढी़ का निर्माण किया
 
उस लकडी़ की सिढी़ के सहारे हम पतिले तक पहुंचते हैं
 
और सब मिलकर खीर का आंनद लेते हैं
 
बुजुर्ग औरत यमराज कि तरफ देखने लगी 
 
यमराज मुसकाये बोले
 
ईशवर ने स्वर्ग और नरक मनुष्यों के हाथों में ही सौंप रखा है,चाहें तो अपने लिये नरक बना लें, चाहे तो अपने लिये स्वरग, ईशवर ने सबको एक समान हालातो में डाला हैं
 
 

 

उसके लिए उसके सभी बच्चें एक समान हैं, वो किसी से भेदभाव नहीं करता
 
वहां नरक में भी पेेड़ पौधे सब थे, पर वो लोग खुद ही आलसी हैं, उन्हें खीर हाथ में चाहीये,वो कोई कर्म नहीं करना चाहते, कोई मेहनत नहीं करना चाहते, इसलिये भूख से बेहाल हैं
 
कयोकिं ये ही तो ईश्वर कि बनाई इस दुनिया का नियम है,जो कर्म करेगा, मेहनत करेगा, उसी को मीठा फल खाने को मिलेगा
 
दोस्तों ये ही आज का सुविचार है, स्वरग और नरक आपके हाथ में है
मेहनत करें, अच्छे कर्म करें और अपने जीवन को स्वरग बनाएं।
 
आप सबका दिन शुभ हो
 
और हां, ये पोस्ट अगर आपको ज़रा सी भी पसंद आई हो तो आगे शेयर करना मत भुलियेगा।
 
Jai Shri Radhey Krishna Ji

 
 


 
 


 
More in Spiritual
श्याम भक्त श्री श्याम बहादुर जी

श्री श्याम बहादुर जी जन्म फतेहपुर राजस्थान में हुआ था |इनके पिता लाला शादी रामजी कसेरा श्याम बाबा के अनन्य भक्त थे |  

1 week ago . 45 views

बेटे के जन्मदिन पर .....

रात के 1:30 बजे फोन आता है, बेटा फोन उठाता है तो माँ बोलती है:- "जन्म दिन मुबारक लल्ला"   बेटा गुस्सा हो जाता है और म...

3 weeks ago . 88 views

केदारनाथ को क्यों कहते हैं ‘जागृत महादेव’ ?, दो मिनट की ये कहानी रौंगट...

एक बार एक शिव-भक्त अपने गांव से केदारनाथ धाम की यात्रा पर निकला। पहले यातायात की सुविधाएँ तो थी नहीं, वह पैदल ही निकल पड़ा। रास्ते में जो भी मिलता केदारनाथ का मार्ग...

1 month ago . 99 views

रावण ने मरते हुए कही थीं ये बातें, आज भी दिला सकती हैं सफलता

इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता कि रावण में तमाम बुराईयां थीं. पर ये भी जग जानता है कि वो प्रकांड पंडित था.

1 month ago . 52 views

10 Interesting Facts About Ravan That Will Make You See Him In A Whole...

Dussehra might be a festival to celebrate the victory of good over evil, but it's only a minor part of Hindu mythology. Ravan was one of the most important ch...

1 month ago . 49 views

Varuthini Ekadashi: Significance of Krishna Paksha and How Devotess Ob...

The significance of Varuthini Ekadashi is explained by Lord Krishna to the King Yudhishthira in the Bhavishya Purana.

1 month ago . 60 views

 
 
 

Prashnavali

Thought of the day

Timing is very Important in Life. And Even a Correct Decision is Wrong, When it is taken Late; Because Life is a Game of Timing. And So Respect Time and Life Will Respect You.
Anonymous